Press "Enter" to skip to content

संदूक यादें, लम्हें और आशाओं की – फ्रीडम थिएटर फिलिस्तीन !

५ जनवरी २०१६ को मुंबई विद्यापीठ द्वारा भारत फिलिस्तीन सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया.इस कार्यक्रम में जन नाट्य मंच(नयीदिल्ली) और फ्रीडम थिएटर फिलिस्तीन द्वारा एक नाटक प्रस्तुत किया गया.

SAM_3963

शुरुवात में कलाकारों का परिचय कराया गया और प्रेक्षकों से फिलिस्तीन के बारे में सवाल भी पूछे गए जिसे लोग फिलिस्तीन और इजराइल संघर्ष के बारे में क्या सोचते हैं और क्या जानते हैं यह जानने की कोशिश की गयी.

नाट्य की शुरुआत
नाट्य की शुरुआत

नाट्य की शुरुवात नाट्यमय ही हुयी बहुत ही तेजी से और चिल्लाते हुए शुरू हुए इस नाट्य में समयसुचकता का पूरा ख्याल रखा गया था, लोगों को फिलिस्तीन के लोगों का दर्द तो दिखाया गया मगर कही भी जू लोगो को दुश्मन या फिर राक्षस की तरह नहीं दिखाया गया.
हिंदी और इसके साथ ही अरबी दोनों भाषाओ परस्परपुरक किया गया प्रयोग, बीच में योग्य जगहों पर गायें गए अरबी गानों ने नाट्य को एक अलग ऊंचाई पर ले गए.

फिलिस्तीन को प्रतीकात्मक रूप से एक पुतले की तरह दिखाया गया जिसको ३ अलग लोग चला रहे थे, इसके द्वारे दिखाया गया की फिलिस्तीन के ऊपर जबरदस्ती कर किस तरह दुसरे महायुद्ध के जीते हुए देशो ने ज़बरदस्ती इजराइल का निर्माण कराया.

कमजोर फिलिस्तीन और उसके हाथ किसी और के हाथ में
कमजोर फिलिस्तीन और उसके हाथ किसी और के हाथ में

नाट्य में सबसे दिलचस्प रहा संदूक का किया गया प्रयोग उससे जुडी फिलिस्तीनियों की भावनाए, यह संदूक उनके शांति वालो दिनों की यादों से लेकर उनके खुदके घर से बहार निकाले जाने तक की दर्दभरे लम्हों से लेकर आज की लड़ने की आशा तक का प्रतिक हैं.

और उनका नज़रिया
और उनका नज़रिया

फिर प्रयोग वर्तमान की और मुड़ा, जिसमे भारत, अमेरिका और इजराइल के संबंध, उनमे हो रहा हथियारों का व्यापर जिस तरह खुद कर्जा दे कर अमेरिका दुसरे देशो को दे रही हथियार खरीदने का लालच और उसके बदले में एकदूसरे के खुल रहे बाजार.

कलाकारों ने बराक ओबामा, नरेन्द्र मोदी, बेंजमिन हुन्तायु के मास्क लगाकर व्यंगात्मक तरीकेसे उनके स्वभाव और योजनाओ पे टिप्पनि की.

उसके बाद अचानक से ही टैंक के लिवाज में आवाज़ करते हुए २ कलाकार प्रेक्षक को बीच से होते हुए स्टेज पर गए और वहा से उनपे गोलीबारी करने लगे और इससे उन्होंने ये दिखाया की ये हथियार कल आप पे भी इस्तेमाल किये जा सकते है जो आप के लिए खरीदे जा रहे हैं.

टैंक हमारे बिच
टैंक हमारे बिच

नाट्य के अंत में सभी लोगो ने खड़े रहकर तालिया बजाकर कलाकारों के कृति को सहराया.

जन नाट्य मंच और फिलिस्तीन फ्रीडम थिएटर
जन नाट्य मंच और फिलिस्तीन फ्रीडम थिएटर

Leave a Reply

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *