Press "Enter" to skip to content

गडचिरोली और काजीरंगा: संवैधानिक लड़ाई पर दो युवा डटें हैं- महेश राउत और प्रणब डोले

फ़रवरी प्रिंट अंक

लावरी, गडचिरोली-
सरकार के खिलाफ दो सीधे वर्षों के लिए लड़ने के बाद, गडचिरोली जिले के एक आदिवासी गांव लावारि ने लगभग १ करोड़ ११ लाख २६ हजार रु. की मुआवजा राशि प्राप्त करके जीत हासिल की. रायपुर से वर्धा तक की परियोजना के निर्माण के लिए दिसंबर 2015 में पावर ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (पीजीसीआईएल) द्वारा वन मंजूरी प्राप्त करने वाली परियोजना में सैकड़ों लघु वन उत्पाद (एमएफपी) पेड़ प्रजातियों को काटने की आवश्यकता थी, जो लावरी में आदिवासी समुदाय के लिए आजीविका का एक बड़ा स्रोत है. गांव निर्माण के खिलाफ नहीं था (उन्होंने महीनों के लिए निर्माण रोक दिया था), लेकिन वे इन पेड़ों को हटाने से उत्पन्न होने वाली आय के नुकसान के मुआवजे के मुकाबले सतर्क हो गए थे. अपने जंगल में पेड़ प्रभावी ढंग से लड़ने के लिए, लावरी गांव ने एक वन्हाक सहानियतंत्र समिति (वन अधिकार सह-प्रबंधन समिति) का गठन किया जिसमें सात पुरुष और पांच महिलाएं शामिल थीं इस आंदोलन के बारे में अधिक जानने के लिए सभा दल सदस्यों से मिले.

1) इस तरह के संघर्ष में भाग लेने के लिए आपको क्या प्रोत्साहित किया गया था?
ए- मैं राहुल हेलीमी हूं. मैं वनाक सहानियत्रीय समिति का अध्यक्ष हूं और मैं इस गांव में सक्रिय रूप से लोगों को एक साथ लाने और कार्यक्रमों को लागू करने के लिए काम कर रहा हूं. हम अपने गांव को अपने दम पर विकसित करने की आवश्यकता पर अधिक देख रहे हैं क्योंकि सरकार हमारे मामलों में बहुत कुछ नहीं देखती है. चूंकि चारों ओर बेरोजगारी है, हम यह सोचने की कोशिश करते हैं कि हम ग्रामीण धन के माध्यम से लोगों को कैसे काम दे सकते हैं (लोगों के लिए नौकरी मिल सकते हैं) यह हमारी महत्वपूर्ण भूमिकाओं में से एक है.

‘टॉवर-युद्ध’ हमारा हालिया संघर्ष रहा है. हमने कम से कम 70 बार टावर बिल्डरों के अधिकारियों से मुलाकात की, कलेक्टर के कार्यालय में तीन बार बैठे और विभागीय अधिकारियों के साथ लगभग सात-आठ बार. यह प्रक्रिया बहुत चुप थी और अंत में हमें 1 करोड़ 11 लाख और 26 हजार मिले और यह तथ्य कि सभी गांव के लोगों के संघर्ष और समर्थन के कारण यह सब संभव था. जब भी हम बैठकों के लिए बाहर जाते, पूरे गांव ने हमें निर्देशित किया और यहां तक ​​कि यात्रा और अन्य खर्चों के लिए हमें दान भी दिया; हमारे गांव के समर्थन के कारण जो कुछ हम कर सकते हैं वह किया है.

2) उन कठिनाइयों का क्या सामना करना पड़ा?
ए- राहुल: हमारे रास्ते में कई बाधाएं थीं. उदाहरण- परियोजना के अधिकारियों ने हमारे साथ बस्तियों को बदलने की कोशिश की शुरू में हमें 3 लाख रुपये की पेशकश भी की गई थी लेकिन हमने रिश्वत को स्वीकार नहीं किया. दूसरी बार, उन्होंने हमें प्रत्येक 5 लाख देने की कोशिश की. उन्होंने हमें हमारे परिवार के लिए सोचने के लिए कहा; उन्होंने हमें यह कहते हुए सवाल किया कि ‘आप सभी समाज के लिए लड़ रहे हैं लेकिन आप अपने परिवारों के लिए क्या कर सकते हैं ? आपको इस बारे में सोचना चाहिए ‘ लेकिन हमने इन सबको ध्यान नहीं दिया और आगे काम करना छोड़ दिया. हमने महसूस किया कि यदि हमारे समाज को 10 रुपए भी लाभ हुआ है, तो हम अपने परिवारों में भी एक अंतर बना सकते हैं और हम उससे संतुष्ट हैं और इस तरह, यह संघर्ष लंबे समय तक चला. सरकार ने हमारी मांगों को दबाने की कोशिश की. जब मजदूर पेड़ों को कम करने के लिए आते थे, तो हमारे गांव की महिलाओं ने पेड़ों को गले लगाया और उनको पेड़ों को काटने से पहले, उन्हें नीचे काटने के लिए कहा क्योंकि हम जीवित हैं और हम जंगल पर पूरी तरह से निर्भर हैं.

3) तो आगे क्या? आप अन्य गांवों में इस संघर्ष को कैसे फैल पाएंगे?
ए- राहुल: अब हम ग्राम सभा को अन्य गांवों में स्थापित करने के लिए लक्षित कर रहे हैं. हम अधिक पेड़ लगाएंगे, खेती के लिए अधिक बीज खरीद लेंगे और हम पीने के पानी और शिक्षा के तरीके तलाशेंगे. शिक्षा के लिए कोई विकल्प नहीं है इस प्रकार, हमारा उद्देश्य शिक्षा पर अधिक खर्च करना है. हम ग्राम सभा के माध्यम से लड़कियों और लड़कों की अगली शिक्षा (स्नातक या स्नातकोत्तर) को प्रायोजित करने के लिए फंड का उपयोग करेंगे और हम वन क्षेत्र में वृद्धि करना चाहते हैं. तो, ज्यादातर पैसे उस पर खर्च किए जाएंगे. हम अपने पड़ोसी गांवों में लवरी गांव जैसे संघर्ष का उदहारण देना चाहते हैं. हम सिर्फ 3-4 ऐसे गांवों में ही संतुष्ट नहीं होंगे, लेकिन हम ऐसे 100 गांवों को बनाने का लक्ष्य रखते हैं.

4) एक महिला के रूप में, इस आंदोलन के प्रति आपका योगदान क्या रहा है?
ए- जमुना मेडवी: मैं एक ग्राम सभा सदस्य हूं. हम सभी के साथ मिलकर काम कर रहे हैं. महिलाओं और पुरुषों ने इस लड़ाई को एक साथ लड़ा है. हर निर्णय को एक साथ लिया गया है और यह पूरे गांव द्वारा दिखाए गए समर्थन के कारण सफलता प्राप्त हुआ है. हम ग्रामीणों को ही केवल हमारी सफलता के लिए श्रेय देना चाहेंगे.

5) ग्राम सभा सदस्य के रूप में आपने क्या भूमिका निभाई?
ए- सुमेय: शुरुआत में, जब हमने इस सभा की स्थापना की तो हमने खुद सोचा कि हमारे संघर्ष में सफलता मिलेगी! लेकिन पूरे गांव ने एक साथ मिलकर ग्राम सभा के सचिव को अपने कार्यालयों में बैठक और पत्र लिखने के लिए गांव से यात्रा करने के लिए धन जुटाया. एक बार पेपर का काम किया गया और बिजली ग्रिड के अधिकारियों ने उस क्षेत्र को चिह्नित करने के लिए आया जहां टॉवर का निर्माण किया गया था, लेकिन उस समय भी हम एक-दूसरे के लिए खड़े हुए और आगे लड़े. अधिकारियों ने हमें बताया कि अगर उन्हें मंजूरी नहीं दी गई है, तो सरकार को नुकसान का सामना करना होगा. हमने उन्हें बताया कि हमारी आजीविका इस पर निर्भर है.

जीपल कृषक श्रमिक संघ
स्थानीय लोगों से निपटने में फायरिंग और टीयरगैस में बर्बर निष्कासन, बीजेपी + एजीपी सरकार, असम द्वारा किए गए निष्कासन का विरोध करने वाले समुदायों पर इस्तेमाल किया गया. गुवाहाटी उच्च न्यायालय में निर्वासन के खिलाफ एक याचिका है, इसके बावजूद कि आज के किसी भी पूर्व सूचना के बिना निष्कासन किए गए थे. गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में 6 से अधिक व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हो गए और उन्हें भर्ती कराया गया था. अलग-अलग समूहों और छात्र संघों ने निष्कासन के खिलाफ कॉल किया था, बीजेपी + एजीपी सरकार ने ध्यान में नहीं लिया. एक बार फिर यह साबित कर रहा है कि सरकार सिर्फ पट्टणजली आदि जैसे निगमों के लिए भूमि बैंक बनाने में ही इक्छुक है, लेकिन उन्हें राज्य के लोगों के बुनियादी मूलभूत अधिकार देना उसके लिए कोई मायने नहीं रखता.

प्रणब डोले, सोनेस्वर नारह द्वारा जीपल कृषक श्रमिक संघ (जेकेएसएस) के जरये काजीरंगा और गोलाघाट में संघर्ष जारी रखें हैं. फर्जी केस में गिरफ्तारी के बावजूद इनका संघ स्थानीय लोगों के हक में लगा हुआ है. गौरतलब है कि वन विभाग द्वारा फर्जी स्थानीय लोगों को तस्करी के नाम पर मारना, और नुमालीगढ़ का गैरकानूनी प्रोजेक्ट के विरोध करने से पूंजीपति और सरकार मिलकर इन्हें परेशां कर रही है.

( पल्लवी वर्धन द्वारा प्रतिलेखन. पल्लवी सैंट ज़ेवियर कॉलेज, मुंबई में मास्टर्स में पब्लिक पालिसी पर अध्यन कर रही हैं.)

More from कानून और न्यायMore posts in कानून और न्याय »
More from भारतMore posts in भारत »

Leave a Reply

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *